आतंकवाद पर भारत की वैश्विक दृष्टिकोण India’s global approach to terrorism

India’s global approach to terrorism

आज विश्व के सामने आतंकवाद सबसे बड़ी चुनौती है और भारत भी आतंकवाद से अछूता नहीं है वैश्विक आतंकवाद रिपोर्ट 2017 के अनुसार भारत दुनिया के शीर्ष 10 देशों में शुमार है जो आतंकवाद से प्रभावित है जिसमें भारत की रैंकिंग आठवें नंबर पर है
अगर दुनिया की मानवतावादी शक्तियां  एक हो तो इस चुनौती से आसानी से निपटा जा सकता है पिछले कुछ वर्षों में भारत की आतंकवाद पर वैश्विक दृष्टि में काफी बदलाव आया है 
पहली बार भारत ने यूनाइटेड नेशन को वैश्विक मंच पर बताया कि आतंकवाद क्या है जो यूनाइटेड नेशन पिछले 40 सालों से गुड टेररिज्म और बेड टेररिज्म में फंसा था उसे वैश्विक मंच पर भारत ने बताया कि टेररिज्म, टेररिज्म होता है गुड और बैड नहीं.
2015 में भारत सरकार ने दुनिया के कई देशों को और यूनाइटेड नेशन को चिट्ठी लिखकर आतंकवाद का पैमाना जारी करने को कहा
भारत सरकार ने यूनाइटेड नेशन पर दबाव बनाया और कहा कि अब हमारे पास वक्त नहीं जल्द से जल्द आतंकवाद का पैमाना तय हो.
India-is-not-untouched-by-terrorism-According-to-the-Global-Terrorism-Report-2017-India-is-one-of-the-top-10-countries-in-the-world-which-is-affected-by-terrorism-in-which-India's-ranking-is-eighth.

 India’s global approach to terrorism

भारत ने साफ किया कि दुनिया के सामने आतंकवाद और आतंकवाद के मददगारों   परिभाषा तय होनी चाहिए, भारत सरकार के कड़े चेतावनी के बाद यूनाइटेड नेशन इससे ज्यादा दिन तक टाल नहीं पाएगा.
भारत ने वैश्विक मंच पर यह साफ किया कि गुड टेररिज्म और बेड टेररिज्म की वजह से मानवता की रक्षा करने में दिक्कत हो रही है.
पहली बार भारत सरकार के आतंकवाद पर इस कड़े रुख से दुनिया को भारत की शक्तियों का एहसास हुआ, और दुनिया ने यह महसूस किया की दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र आतंकवाद को समाप्त करने के लिए व्याकुल है.
वाशिंगटन में हुए न्यूक्लियर सम्मिट में भारत ने दुनिया के सभी देशों से आतंकवाद के खिलाफ एकजुट होने की अपील की
भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस सम्मिट में कहा था कि अगर आतंकवाद से लड़ना है तो पूरी दुनिया को एक साथ आना होगा तथा उन्होंने यह भी कहा कि दुनिया के सभी देशो में आतंकवाद पर आपसी सहयोग की भारी कमी है.
बीते कुछ सालों में आतंकवाद पर भारत का वैश्विक दृष्टिकोण काफी बदल गया है और इसका जीता जागता उदाहरण है कि भारत सरकार ने वैश्विक मंच पर आतंकवाद का मुद्दा काफी गर्मजोशी से उठाया और यूनाइटेड नेशन तथा दुनिया के देशों पर दबाव बनाया.
वैश्विक आतंकवाद पर भारत सरकार ने जो किया वह बेहद अभूतपूर्व है साथ ही भारतीय सेना द्वारा किया गया सर्जिकल स्ट्राइक ने भी भारत की आतंकवाद पर वैश्विक दृष्टिकोण को दुनिया के सामने रखा.
Please follow and like us:
error

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!